बच्चो ने मनाया ’शिक्षक दिवस’

कुछ रिश्ते ऐसे होते हैं जो हर रिश्ते से अलग और हृदयस्पर्शी होते हैं। एक रिश्ते और छात्र का भी वही  रिश्ता होता है। एक तरफ जहां शिक्षक बच्चों के बेहतर भविष्य को लेकर कड़ी परिश्रम और पूर्ण योगदान देते रहते हैं उसी तरह छात्रों के दिल में उनके लिये श्रध्दा प्रेम और आदर विद्यमान होता है। इसी मनोभावना का दिवस रहा है ’शिक्षक दिवस’।

Teachers Day 2017

गई परीक्षा गरमी आई, मिलकर कुछ करते हैं भाई !

Submitted by admin on Thu, 07/20/2017 - 14:38
Summer Camp - Taekondu Class
ताइक्वांडो का प्रशिक्षण

शायद गर्मी की छुटिट्यां शुरू होते ही सूरज की गर्मी को बच्चे यहीं कहना चाहते हैं। क्योंकि इन छुटिट्यो में कुछ सीखने कुछ करने और कर गुजरने की लगन को सूर्य की तपिश भी कुछ ना कर पाई।

जे.एम.सी.में ’शिक्षक दिवस’ मनाया गया

JMC Teachers Day 2016जयशंकर मेमोरियल सेंटर के प्रांगण में 5 सितम्बर 2016 को शाम 3 बजे बच्चों के द्वारा ’शिक्षक दिवस’ का आयोजन किया गया। इस अवसर पर जे.एम.सी.की प्रोग्राम कोर्डिनेटर छाया प्रवीण, रिमेडियल के शिक्षक अतुल सागर और लाईब्रेरी की संचालिका गुड्डी रानी और अर्चना मौजूद थे। इसके साथ साथ बच्चों ने लाईब्ररी में सुबह अंग्रेजी पढ़ाने के लिए आने वाली लक्ष्मी अरोरा और शाम को रिमेडियल में बच्चों को अंग्रेजी पढ़ाने वाली स्नेहा जी भी मौजूद थी।

दिल्ली पुस्तक मेला में साक्षी का जय जयकार

Delhi Book Fair 201630 अगस्त 2016 सुबह जे.एम.सी. में बच्चो की उपस्थिति 8 30 बजे से ही शुरू हो गई थी क्यों कि आज उनमें कुछ सीखने की घूमने की कुछ कर दिखाने की ललक दिख रही थी। ऐसा इसलिए था, क्योंकि उन्हे आज ’दिल्ली पुस्तक मेला’ में अपनी शगीदारी दिखानी थी। इनमें कला और साहित्य तो कूट कूट कर भरा है लेकिन ऐसे मौके बहुत ही कम मिलते हैं जिसमें इन्हे अपनी हुनर को दिखाने का और कुछ कर गुजरने का मौका मिलता है। इन बच्चों को जे.एम.सी.  और बचपन सोसायटी ने यह अवसर दिया । वहां बच्चों ने पुस्तक की दुनिया और शिक्षा से जुड़े हर गतिविघियों को देखा सुना और समझा।

जयशंकर मेमोरियल सेंटर के पूर्व छात्रों का सम्मेलन

15 जुलाई 2016 में जे.एम.सी. के प्रागण में पूर्व छात्रों का एक सम्मेलन आयोजित किया गया। जिस में 2009 से 2016 तक पढ़ चुके लगभग सभी विध्यार्थी मौजूद थे जो 10वीं व 12वीं में उत्तीर्ण विध्यार्थि और कुछ  कॉलेज  या कुछ नौकरी करने वाले विध्यार्थी आये थे। बहुत ही उमंग और उल्लास के साथ ये सारे छात्र जे.एम.सी. में आये थे वह सब आपस में एक दूसरे के साथ मिलकर व जे.एम.सी. टीचर्स को मिलने से उनकी खुशी का कोई जवाब नहीं था।